Indian Society | भारतीय समाज

विषय वार करंट अफेयर्स UPSC सिलेबस के अनुसारIndian Society | भारतीय समाज के करंट अफेयर्स को अधिक संगठित तरीके से उपलब्ध कराने का प्रयास है।

Indian Society | भारतीय समाज सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी में सबसे महत्वपूर्ण पहलू है। हमें हमेशा UPSC प्रारंभिक परीक्षा और UPSC मुख्य परीक्षा के परिप्रेक्ष्य से करेंट अफेयर्स का विश्लेषण Indian Society | भारतीय समाज के अनुसार करना चाहिए। क्योकि हर साल लगभग 10 से 15 प्रश्न Indian Society | भारतीय समाज से पुछे जाते है।

Indian Society | भारतीय समाज
Indian Society | भारतीय समाज

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन सा विषय UPSC (अर्थशास्त्र, पर्यावरण, इतिहास या राजनीति से) प्रश्न अधिक पूछता है, अपितु यह विषय को एक वर्तमान संबंध से जोड़ने के लिए एक जागरूक प्रयास है। इस प्रकार हमारे लिए यह जानना अनिवार्य हो जाता है कि करंट अफेयर्स का वास्तविक अर्थ यूपीएससी के दृष्टिकोण से क्या है। आप पिछले वर्ष के प्रश्न पत्रों के विश्लेषण के माध्यम से उचित समझ प्राप्त कर सकते हैं।

यदि हम २०१३ के बाद से २०१ ९ की प्रारंभिक परीक्षा तक प्रश्न पत्रों की जांच करते हैं, तो लगभग ५०% प्रश्न लगभग उन विषयों से पूछे जाते हैं जो वर्तमान प्रासंगिकता के हैं। करंट अफेयर्स पर आधारित प्रश्नों की संख्या साल-दर-साल बदलती रहती है।

प्रश्न पत्रों के पैटर्न में इस तरह के बदलाव के पीछे का तर्क यह है, कि यूपीएससी की मंशा देश को संचालित करने वाले प्रतिभाशाली दिमागों की खोज है। हालांकि, इस के लिए उचित होगा कि UPSC उस समाज के बारे में उम्मीदवार की जागरूकता की जांच करे जिसमें वह रह रहा है। इस तरह के विश्लेषण के लिए स्थैतिक ज्ञान (Static knowledge)अक्षम साबित होगा। समाज गतिशील है और परिवर्तनों के अधीन है।

एक सिविल सर्वेंट में एक बैरिस्टर का कौशल होना चाहिए और एक राजनयिक का भी होना चाहिए ताकि बदलते समाज के साथ तालमेल बैठा सके और अपने कर्तव्य के निष्पादन के संबंध में समन्वय, तर्क जुटाए और सर्वसम्मति प्राप्त करने के लिए संज्ञानात्मक कौशल दिखाए। कर्तव्य की यह विश्लेषणात्मक प्रकृति आकांक्षाओं को समाज के विश्लेषणात्मक दिमाग और जागरूकता की मांग करती है। यह जागरूकता केवल एक व्यापक रीडिंग के माध्यम से प्रदान की जा सकती है जो कि पाठ्यपुस्तक ज्ञान से परे है।

Indian Society | भारतीय समाज

close
mailpoet

Free IAS Preparation by Email

We don’t spam! Read our privacy policy for more info.